Breaking


शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2021

करनैलगंज की ऐतिहासिक रामलीला मंचन में काबुल से आए सौदागर बेटे के हत्यारे को दी गई फांसी।

करनैलगंज गोंडा।नगर करनैलगंज की ऐतिहासिक रामलीला में कलाकारों द्वारा अहिरावण वध व नारांतक वध की लीला दिखाई गई और रामलीला कमेटी द्वारा फांसी की लीला का मंचन किया गया।इस  चर्चित लीला को देखने के लिए क्षेत्रवासियों को देखने को बड़ी उत्सुकता रहती है क्योंकि भ्रष्टाचार, चोरी व हत्या करने वालो का क्या हाल किया जाता है उसे साकार दिखाया गया।संतोष शाह की हत्या के अभियुक्त करार होने पर उसे फांसी की सजा दी गई।स्थानीय रामलीला कमेटी के द्वारा फांसी कि लीला का मंचन कोरोना महामारी के बीते दो वर्षो के बाद इस वर्ष मार्मिक ढंग से दिखाया गया।इस रामलीला मेले में  एक सौदागर काबुल का रहने वाला कमल सोनी हर वर्ष व्यापार करने आता है।जिसमें उसके बेटे का सामान को लूटकर पहचान जाने पर उसकी हत्या कर दी जाती है।पुलिस हरकत में आने के बाद मुलजिम गिरफ्तार किया जाता है और न्यायालय के जज द्वारा हत्या करने वाले अभियुक्त दोषी साबित होने पर उसे फांसी की सजा दी जाती है।आपको बताते चले कि यह फांसी कि लीला रामलीला कमेटी द्वारा इसलिए किया जाता है कि भ्रष्टाचार लूट खसोट व हत्या करने वालो की क्या दशा होती है। उसे साकार रूप दिखाकर जनता को उससे दूर रखना चाहते है।मेले में सौदागर कमल सोनी जब  व्यापार करता है उस समय कुछ लुटेरे के द्वारा उसके बेटे का सामान लूट लिया जाता है।लुटेरे को इस बात की संभावना हो जाती है कि यह मुझे पहचान गया है जिससे लुटेरे ने सौदागर के बेटे की हत्या कर देता है ।सौदागर नगर कोतवाली में तहरीर देने पर पुलिस हरकत में हो जाती है हरकत में आने के बाद  पुलिस मुलजिम हत्यारा संतोष शाह को गिरफ्तार कर धारा 152/14/292/302 आई पी सी के तहत केस दर्ज करती है और इस मामले को न्यायालय भेज दिया जाता है जब मामला न्यायिक अरमान पुरुवार  कि अदालत पर गवाहन व बहस के तहत सौदागर के वकील अभिषेक परिवार, अपने पक्ष को रखने  के बाद कहता है कि योर ऑनर दरोगा अतुल पटवा ,डॉ रिंकू पुरवार की पोस्टमार्टम की रिपोर्ट से यह साबित होता है कि मुलजिम ने बेटे की हत्या धारदार औजार से की है। लुटेरे संतोष शाह के वकील प्रिंस पुरुवार अपने पक्ष को रखते हुए निर्दोष बताया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें