Breaking

शनिवार, 19 जून 2021

नवनिर्वाचित प्रधान होते ही दिखाई दबंगई,गरीब परिवार को कर रहे प्रताड़ित पुलिस नहीं कर रही कार्यवाही।





गोंडा - थाना तरबगंज अंतर्गत भटपुरवा के नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान ने बिना कोई विवाद के पीआरबी 112 को बुलाया जबकि पी आर बी में तैनात कांस्टेबल मौके पर खड़ा होकर छप्पर को उजड़ावना शुरू कर दिया आबादी की जमीन को कब्जा करने को लेकर उपद्रव पहले से कब्जा किए व्यक्ति को मारना पीटाना शुरू कर दिया मौके पर थाना से पुलिस भारी बल में पहुंचने पर व्यक्ति की जान बची गंभीर रूप से घायल व्यक्तियों को सीएचसी बेलसर पहुंचाया गया जहां उनकी हालत नाजुक देखते हुए जिला अस्पताल गोंडा के लिए रेफर कर दिए गए घायल व्यक्ति ने थाने में दी तहरीर प्राप्त जानकारी के मुताबिक तरबगंज के भटपुरवा ग्राम सभा निवासी स्वामीनाथ ने बताया कि गांव की आबादी की जमीन पर उसका पिछले कई सालों से कब्जा था जिसे अब नवनिर्मित ग्राम प्रधान ताज मोहम्मद उर्फ राजू जबरन छीनना चाहते हैं पीड़ित ने बताया कि जमीन के मामले को लेकर 112 पर शिकायत भी की गई थी जब 112 की पुलिस मौके पर पहुंची तो दोनों पक्षों को थाने में आने के लिए बोला वही जब पीड़ित के पुत्र राकेश अपने पिता स्वामीनाथ के साथ थाने जा रहे थे तभी रास्ते में ग्राम प्रधान ताज मोहम्मद उर्फ राजू, गुलफाम, मोहम्मद नईम, रिजवान अहमद उर्फ मिठाई, मो लतीफ, कलीम, मो मुख्तार ,मो लाइक, जमशेद आलम, फिरोज आलम, मोहम्मद नदीम, ननकू, जाकिर, सकिर, व सैकड़ों लोग पिता व पुत्र पर हमला कर दिया और बुरी तरीके से मारा पीटा जिसमें स्वामीनाथ गंभीर रूप से घायल हो गए जिस से घायल को बेलसर के सीएचसी लाया गया जहां से डाक्टरों ने घायल व्यक्ति को गोंडा रेफर कर दिया पीड़ित ने बताया कि रास्ते में हमला करने के बाद राजू प्रधान व उनके सभी समर्थक वापस गांव जाकर उसके घर पर रह रही बहन को भी मारा पीटा और आबादी की जमीन में रखे छप्पर को फूकने की धमकी देते हुए उजाड़ कर फेंक दिया पीड़ित की लड़की को छेड़खानी करना शुरू दिया गया पीड़ित की लड़की ने बताया कि ऐसे गांव में रह रही है व मुस्लिम 300 घर की बस्ती है और दो घर ब्राह्मण हैं वह मुस्लिम बहुमूल्य गांव है जिसमें किसी से कोई बाता कहानी होने पर ही पूरा गांव एक होकर उसके घर पर चढ़ आते हैं और जान से मारने व गांव से निकाल देने तक की धमकी देते हैं हालांकि हल्का दरोगा अभिषेक बर्मा ने प्रधान के पैसा व बेजा दबाव होने के कारण ना तो पीड़ित व्यक्ति का मेडिकल कराया गया न ही कोई है FIR दर्ज किया जा रहा है।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें